प्रतिनिधी कविताएँ – श्रीकांत वर्मा

An excerpts, from one of the poems from his book:-

कुछ का व्यवहार बदल गया। कुछ का नहीं
बदला।
जिनसे उम्मीद थी, नहीं बदलेगा
उनका बदल गया।
जिनसे आशंका थी,
नहीं बदला।
जिन्हें कोयला मानता था
हीरों की तरह
चमक उठे।
जिन्हें हीरा मानता था
कोयलों की तरह
काले निकले।…..

Source: – Kavitakosh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *