प्रतिनिधि कविताएँ – त्रिलोचन

त्रिलोचन :- जन्म-स्थान : गाँव कटघरापट्टी-चिरानीपट्टी, जिला सुल्तानपुर (उ.प्र.)। शिक्षा : अरबी-फारसी शिक्षा, साहित्य रत्न, शास्त्री, अंग्रेजी साहित्य में एम.ए. (पूर्वार्द्ध) काशी हिन्दू विश्वविद्यालय, वाराणसी। हिन्दी के वरिष्ठतम कवियों में से एक। जीविका के लिए बरसों पत्रकारिता और अध्यापन-कार्य। हंस, कहानी, वानर, प्रदीप, चित्ररेखा, आज, समाज और जनवार्ता आदि पत्रिकाओं में सम्पादन-कार्य। 1952-53 में गणेशराय […]

प्रतिनिधि कविताएँ – भारत भूषण अग्रवाल

published in the year 2004 कवि, लेखक और समालोचक भारतभूषण अग्रवाल का जन्म 3 अगस्त 1919 (तुलसी-जयंती) को मथुरा (उ.प्र.) के सतघड़ा मोहल्ले में हुआ। उनका निधन 23 जून 1975 (सूर-जयंती) को हुआ। इन्होंने आगरा तथा दिल्ली में उच्च शिक्षा प्राप्त की फिर आकाशवाणी में तथा में तथा अनेक साहित्यिक संस्थाओं में सेवा की। पैतृक […]

रश्मिरथी – रामधारी सिंह “दिनकर”

विषय: कविताएँ “रश्मिरथी में स्वयं कर्ण के मुख से निकला है-मैं उनका आदर्श, कहीं जो व्यथा न खोल सकेगे पूछेगा जग, किन्तु पिता का नाम न बोल सकेंगे, जिनका निखिल विश्व में कोई कहीं न अपना होगा, मन में लिये उमंग जिन्हें चिर-काल कलपना होगा। कर्ण-चरित के उद्धार की चिन्ता इस बात का प्रमाण है […]

पश्यंती – धर्मवीर भारती

निबंध 1969   लेखक के बारे में: २५ दिसम्बर १९२६ को जन्मे धर्मवीर भारती आधुनिक हिन्दी साहित्य के प्रमुख लेखक, कवि, नाटककार और सामाजिक विचारक थे। वे एक समय की प्रख्यात साप्ताहिक पत्रिका धर्मयुग के प्रधान संपादक भी थे। उनका उपन्यास गुनाहों का देवता सदाबहार रचना मानी जाती है. सूरज का सातवाँ घोड़ा को कहानी कहने […]

रवीन्द्र रचना संचयन – रवीन्द्रनाथ ठाकुर

संपादक – बन्द्योपाध्याय, असित कुमार रवीन्द्रनाथ ठाकुर (बंगाली: রবীন্দ্রনাথ ঠাকুর रोबिन्द्रोनाथ ठाकुर) (७ मई, १८६१ – ७ अगस्त, १९४१) को गुरुदेव के नाम से भी जाना जाता है। वे विश्वविख्यात कवि, साहित्यकार, दार्शनिक और भारतीय साहित्य के एकमात्र नोबल पुरस्कार विजेता हैं। बांग्ला साहित्य के माध्यम से भारतीय सांस्कृतिक चेतना में नयी जान फूँकने वाले […]

The Essays – Francis Bacon

One of the major political figures of his time, Sir Francis Bacon (1561-1626) served in the court of Elizabeth I and ultimately became Lord Chancellor under James I in 1617. A scholar, wit, lawyer and statesman, he wrote widely on politics, philosophy and science – declaring early in his career that ‘I have taken all […]

India After Gandhi – Ramachandra Guha

India After Gandhi: The History of the World’s Largest Democracy A magisterial account of the pains, the struggles, the humiliations, and the glories of the world’s largest and least likely democracy, Ramachandra Guha’s India After Gandhi is a breathtaking chronicle of the brutal conflicts that have rocked a giant nation and the extraordinary factors that […]

कामायनी – जयशंकर प्रसाद

जयशंकर प्रसाद की सर्वश्रेष्ठ रचना… प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश जिस समय खड़ी बोली और आधुनिक हिन्दी साहित्य किशोरावस्था में पदार्पण कर रहे थे। काशी के ‘सुंघनी साहु’ के प्रसिद्ध घराने में श्री जयशंकर प्रसाद का संवत् 1946 में जन्म हुआ। व्यापार में कुशल और साहित्य सेवी – आपके पिता श्री देवी प्रसाद पर […]

The Argumentative Indian – Amartya Sen

  In sixteen linked essays, Nobel Prize–winning economist Amartya Sen discusses India’s intellectual and political heritage and how its argumentative tradition is vital for the success of its democracy and secular politics. The Argumentative Indian is “a bracing sweep through aspects of Indian history and culture, and a tempered analysis of the highly charged disputes surrounding […]